136 Views
हेलो दोस्तों आप सभी का हमारे ब्लॉग में हार्दिक स्वागत है, आज हम आपको हिचकी आने के कारण और उसे रोकने के उपाय के बारे में बताएंगे।।
दोस्तो आपको पता है हिचकी बड़ी ही ( common) सामान्य सी समस्या है , यह हमे अक्सर आया करती है, हिचकी को अंग्रेजी में हम ( Hiccups ) भी कहते हैं, अगर हिचकी ज्यादा आना शुरू हो जाए और यह ना रुके तो एक तरह से यह एक बीमारी भी है, आमतौर पर हमारे घर में यह जान – पहचान के सभी लोग अक्सर यही कहते हैं कि जब हिचकी आती है तो इसका मतलब यह है कि कोई हमें किसी ने याद किया लेकिन ऐसा नही है एक तरह से देखा जाए तो हिचकी आने का कारण कुछ और ही होता है और इसका विज्ञान कुछ और ही है ।
यह एक वायु विकार का रोग है जब छाती और पेट के बीच की मांसपेशी सिकुड़ने लगती है तो हमारे फेफड़े काफी तेजी से हवा खींचने लगते हैं और सांस लेने में काफी हमे काफी तकलीफ होने लगती है और इस पूरी प्रक्रिया में जब पेट की हवा ‘हिक – हिक ‘ आवाज के साथ साथ हिचकी के रूप में मुंह से निकलती है ।
चलिए आपको हिचकी के कुछ कारण के बारे में बताते हैं कि यह क्यों आती है ।

हिचकी आने के कारण –

1- जब हम अपने भोजन में अधिक मिर्च मसालों का सेवन करते हैं तो जल्दबाजी में खाने के चक्कर में अचानक से हमें हिचकी आने लगती है।

2- हिचकी आने का कारण कई प्रकार का हो सकता है जैसे अधिक प्रकार का उत्साह होना स्ट्रेस होना,स्मोकिंग करना , तनाव होना ,रूम टेंपरेचर में बदलाव होना या और भी कारण हो सकते है ।

3- हिचकी बदहजमी के कारण भी हो सकती है।

4- गुर्दों में सूजन होने के कारण भी हिचकी आने लगती है ।

5 – जोर-जोर से हंसने के कारण भी हिचकी आने लगती है ।

6 – कई बार ऐसा होता है कि कुछ दवाइयों के साइड इफेक्ट से भी हमें हिचकी आने शुरू हो जाती है ।

7 – हानिकारक धुँआओ होने के कारण भी हिचकी आने की समस्या उत्पन्न होने लगती है इसलिए ऐसे वातावरण में जब हिचकी आना शुरू हो जाए तो तुरंत उस वातावरण से दूर चले जाना ही बेहतर होता है।

8– हिचकी की समस्या होने में विभिन्न रोग भी शामिल होते हैं जैसे श्वास की समस्या ,फेफड़े के रोग, हैजा रोग, ज्वर, मस्तिष्क ज्वर ,या अन्य कोई भी बीमारी एवं विभिन्न रोगों में हो सकती है।

हिचकी रोकने के उपाय

1) सांस से हिचकी रोकना –अगर आपको हिचकी आ रही है तो आप कुछ देर के लिए सांस रोक लीजिये जिससे मस्तिस्क तक ऑक्सिजन नहीं पहुचेगा और डायाफ्राम निसक्रिय हो जाएगा। यह कारगर तरीका है।

2) शक्कर (Sugar) के प्रयोग से हिचकी बंद करे – जब आपको हिचकी आये तो थोड़ी सी चीनी खाये ! अगर आप चाहे तो चीनी को मक्खन के साथ भी खा सकते है । चीनी के प्रयोग से डायाफ्राम की असहजता दूर होकर तुरंत हिचकी बंद हो जाती है।

3) चोंकाने से हिचकी को रोकना –जिस किसी व्यक्ति को हिचकी आई हो उसे अचानक से चोंकाने या डराने से उसका ध्यान भंग हो जायेगा जिससे उसकी हिचकिया बंद हो जाएगी।

4) खटाई के प्रयोग से हिचकी को रोकना– खट्टी चीजो के सेवन से जैसे नींबू, खटाई, सिरका इत्यादि से हिचकिया रुक जाती है। ये श्वसन क्रियाओ को रोकती है जिससे Diafram (डायाफ्राम) नष्ट हो जाता है और हिचकिया बंद हो जाती है।

5) मूली से हिचकी को रोकना –जब भी हिचकी आए तो मूली के ४ ताजा पते लेकर खा ले,थोड़ी देर में ही हिचकी रुक जाएगी।

6) पानी की हिचकी रोके -पानी के सेवन से Diafram (डायाफ्राम)अपने निश्चित जगह पर पहुचता है और हिचकियाँ रुक जाती है। । हिचकी आने पाने पर पानी तेज़ी न पिएं धीरे धीरे पिये जिससे हल्की हिचकी तुरंत रुक जाए ।

7) हिंग से हिचकी को रोकना –बहुत ज्यादा ही हिचकी आती हो तो बाज़ार से बाजरे के बराबर हींग को केले या गुड़ के साथ मिलाकर खाये।हिचकी बंद होजाएगी।

8) प्याज हिचकी को बंद करे – कटा हुआ प्याज़ नमक के साथ खाने से हिचकी बंद हो जाती है !

10) सोठ से करे हिचकी का उपचार –सोंठ को पीसकर दूध में उबालकर पीने से हिचकी बंद हो जाती है।

11) तुलसी के पत्तों से हिचकी रोके -3 ग्राम शहद में 12 ग्राम तुलसी के पत्तो का रस मिलाकर खाने से हिचकी बंद हो जाती है ।

12) पुदीना का उपयोग हिचकी रोकने में –अगर तेज हिचकी आ रही हो तो पुदीने के पत्ते चूसे या फिर शक्कर के साथ ले हिचकी रुक जाएगी।

13) अदरक से भगाये हिचकी को :-अदरक के छोटे – छोटे टुकड़ो को मुह में रखकर इसे चूसे । नई, पुरानी हिचकी सब दूर हो जाएगी।

15) जीभ बाहर निकालकर रखे –जब भी आपको हिचकी आए तो थोड़ी देर के लिए जीभ बाहर निकालकर रखे। हिचकी आना बंद हो जाएगी।

16) काली मिर्च हिचकी को बंद करे – 3-4 कालीमिर्च जलाकर पीसने के बाद इसे थोड़ी थोड़ी देर में सूंघने से हिचकी बन्द हो जाती है।

17) नमक हिचकी को करे बंद – काला हो यासेंधा नमक,या फिर रोजाना रसोई के उपयोग काम में आने वाला नमक, इन सभी को पीसकर आधा चम्मच गरम पानी के साथ लेने से हिचकी बंद हो जाती है ।

18) चॉक्लेट पाउडर से हिचकी को बंद करे – हिचकी आने पर 1 चम्मच ( Chocklate powder ) खा ले हिचकी रुक जाएगी ।

19) ईलाईची से भगाए हिचकी:-४०० ग्राम पानी में ४ ईलाईची अच्छे से उबालकर छान ले और फिर एक बार में सारे पानी पी ले हिचकी बंद हो जाएगी।

21) नमक पानी – जब भी आपको हिचकी आए तो थोड़े से नमक को पानी में मिलाकर पी ले फिर आपकी हिचकी रुक जाएगी।

22) शहद- शहद में थोड़ा सा प्याज का रस मिलाकर चाटने से भी हिचकी भाग जाती है।सिर्फ शहद चाटने से मामूली हिचकी दूर होती है।पीपल,सोंठ,आवला और मिश्री को मिलाकर फीस कर शहद के साथ चाटे हिचकी दूर हो जाएगी।

हथेली को अंगूठे से दबाये – जब भी हिचकी आए तो बाए अंगूठे से दाहिनी हथेली से दबाए और दाहिने अंगूठे से बाए हथेली को दबाएं इससे आपका ध्यान भटकेगा और आपकी हिचकी रुक जाएगी ।

अगर आपको इन उपायों के प्रयोग के बाद भी ना आराम मिले तो आप अपने नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें और तुरंत अपना उपचार कराएं और उनके द्वारा दी गई दवाओं को प्रयोग करके आराम पाए क्योंकि यही आखरी उपाय है जो आपको ठीक कर सकता है अगर आप इन घरेलू नुस्खों को अपनाकर ठीक नहीं होते हैं तो, उम्मीद है आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया होगा कृपया अपना सुझाव जरूर करें कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको हमारे आर्टिकल कैसा लगा ।
धन्यवाद।